स्पोर्ट्स जागरण

गौतम गंभीर के करियर की Top 5 पारियां

गौतम गंभीर
इस पोस्ट को शेयर करें

गौतम गंभीर के करियर की Top 5 पारियां : गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) पूर्व भारतीय क्रिकेटर और टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज हैं। वह भारत के अब तक के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में से एक हैं। वह बाएं हाथ के बेहतरीन बल्लेबाज थे और उन्होंने भारत के लिए कई बेहतरीन पारियां खेली हैं।

इस सलामी बल्लेबाज का योगदान बहुत ही महत्वपूर्ण रहा है और इन्होंने भारत की कई ऐतिहासिक जीतों में अपना योगदान दिया है। उन्होंने 2007 टी 20 फाइनल में एक महत्वपूर्ण पारी खेली और 2011 विश्व कप फाइनल में भारत के अनसंग हीरो थे।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का करियर करीब 2 दशक तक चला और उन्होंने 58 टेस्ट खेले, जिसमें 41.95 की औसत से 4154 रन बनाए। इसमें 9 शतक और 22 अर्द्धशतक शामिल हैं। उन्होंने 147 एकदिवसीय मैच खेले, जिसमें उन्होंने 39.68 के औसत और 85.25 के स्ट्राइक-रेट से 5238 रन बनाए।

वह भारत के लिए 37 T20I का भी हिस्सा थे। गंभीर ने अपने अंतररष्ट्रीय करियर को 2018 में अलविदा कह दिया था। इसके बाद उन्होंने राजनीती में अपना हाथ आजमाया और मौजूदा समय में वो भारतीय जनता पार्टी के साथ हैं।

आइये देखें कि गौतम गंभीर के करियर की Top 5 पारियां कौन सी हैं

5. गौतम गंभीर के 64 रन बनाम साउथ अफ्रीका

2011 में केपटाउन में साउथ अफ्रीका के खिलाफ मैच बचाने के लिए खेली गयी उनकी यह पारी काफी खास है। एल्बो में चोट के बावजूद गंभीर बल्लेबाजी करने आये थे और भारतीय टीम के लिए डटकर बल्लेबाजी की और मैच बचाने में अहम योगदान दिया था। 340 रन के टारगेट का पीछा करते हुए भारत की शुरुआत खराब रही और वीरेंदर सहवाग जल्द ही आउट हो गए। गंभीर ने दर्द से लड़ते हुए लगभग चार घंटे तक बल्लेबाजी की और एक खास पारी खेली।

यह भी पढ़ें : केदार जाधव के करियर की Top 5 एकदिवसीय पारियां

गौतम गंभीर ने 188 गेंदों का सामना करते हुए 64 रन की पारी खेली। गंभीर के आउट होने के बाद भारत को 20 ओवर और बल्लेबाजी करनी थी। सचिन और लक्ष्मण ने डटकर बल्लेबाजी की और मैच ड्रॉ कराने में सफल रहे।

4. गंभीर के 206 रन बनाम ऑस्ट्रेलिया

2008 की बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी कई कारणों से भारतीय टीम के लिए खास थी। उनमें से एक सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर द्वारा बेहतरीन प्रदर्शन था। गंभीर ने पूरी सीरीज में बेहतरीन ढंग से बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना दबदबा बनाया। उन्होंने 3 टेस्ट में 77.16 की औसत से 463 रन बनाए, जिसमें उनके नाम के खिलाफ 2 शतक थे। उन्होंने इस सीरीज में अपने करियर का एकमात्र टेस्ट दोहरा शतक भी बनाया।

दिल्ली टेस्ट में भारतीय टीम 27 रन पर दो विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी। गंभीर ने एक छोर से शानदार बल्लेबाजी करते हुए अन्य बल्लेबाजों के साथ महत्वपूर्ण साझेदारियां निभाई। गंभीर ने इस मैच में आउट होने से पहले 380 गेंदों में 206 रन की बेहतरीन पारी खेली थी।

3. गौती के टी20 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ 75 रन

2007 टी20 विश्व कप में फाइनल मुकाबले में भारतीय टीम का सामना उनके चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान से हुआ। हालांकि इतने बड़े मुकाबले में भारतीय टीम की पहले बल्लेबाजी करते हुए शुरुआत खराब रही। पठान, उथप्पा और युवराज जल्दी आउट हो गए।

लेकिन गंभीर ने एक छोर से रन बनाना जारी रखा। गंभीर ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 54 गेंदों में बेहतरीन 75 रन की पारी खेली। उनकी इस पारी की मदद से भारत ने 157 का अच्छा स्कोर बनाया और बाद में भारत ने गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर जीत भी हासिल की।

2. गौतम गंभीर की न्यूजीलैंड के खिलाफ 137 रन की पारी

2009 में टेस्ट सीरीज के दौरान न्यूजीलैंड के खिलाफ गौतम गंभीर की यह पारी उनके टेस्ट करियर की सबसे बेहतरीन पारी है। गंभीर ने इस मैच में भारत के लिए डटकर बल्लेबाजी की और मैच को बचाते हुए शानदार शतक बनाया था।

ब्लैककैप्स की पहली पारी में 619 के कुल स्कोर के जवाब में 305 रन पर आउट होने के बाद, भारत को विपक्षी कप्तान डेनियल विटोरी ने फॉलोऑन दिया। गंभीर ने अपने सलामी जोड़ीदार वीरेंदर सहवाग को जल्द ही खो दिया, लेकिन उन्होंने राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर के साथ दो महत्वपूर्ण साझेदारियों की मदद से भारत को मैच में वापसी करने में मदद की।

गंभीर ने अपनी पारी में 436 गेंदों का सामना किया और 137 रन बनाये। उन्होंने अपनी पारी के दौरान कुल 643 मिनट बल्लेबाजी की। इस तरह यह मैच ड्रॉ हो गया और गंभीर की इस पारी की बहुत प्रशंसा हुयी।

1. गौतम गंभीर के विश्व कप 2011 में 97 रन

इस मैच में गौतम गंभीर ने अपने क्रिकेट करियर की सबसे बेहतरीन पारी खेली थी। 8 साल के लंबे समय के बाद भारत विश्व कप के फाइनल में पहुंचा था। इस फाइनल में उनका मुकाबला श्रीलंका की टीम से था।

श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 274 रन बनाए और फिर सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग के दो विकेट जल्दी लेकर भारत पर दवाब बनाया। गंभीर ने नंबर 3 पर आकर दवाब से भारतीय टीम को निकाला और बेहतरीन बल्लेबाजी की।

गंभीर ने आउट होने से पहले 97 रन की बेहतरीन पारी खेली थी। हालांकि फाइनल में धोनी को मैन ऑफ द मैच चुना गया था लेकिन गंभीर की इस पारी की अहमियत से कोई भी इंकार नहीं कर सकता।


इस पोस्ट को शेयर करें
Exit mobile version